Tuesday, 17 July 2012

38_THOUGHTS AND QUOTES GIVEN BY PUJYA ASHARAM JI BAPU

  यदि हमारा मन ईर्ष्या-द्वेष से रहित बिल्कुल शुद्ध हो तो जगत की कोई वस्तु हमें नुक्सान नहीं पहुँचा सकती | आनंद और शांति से भरपूर ऐसे महात्माओं के पास क्रोध की मूर्ति जैसा मनुष्य भी पानी के समान तरल हो जाता है | ऐसे महात्माओं को देख कर जंगल के सिंह और भेड़ भी प्रेमविह्वल हो जाते हैं | सांप-बिच्छू भी अपना दुष्ट स्वभाव भूल जाते हैं |

  If your mind is pure, has no vices of jealousy or hatred, then nothing in this world can harm us. Even the vicinity of such a Saint of Supreme Bliss and peace will transform a man mad with anger into a docile gentleman. Wild lions and wolves become intoxicated with love at the sight of such a Saint. Even snakes and scorpions forget their wild nature
- Pujya Asharam Ji Bapu

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...